गुरुवार, 15 जून 2023

यौन समस्या “ब्लू बॉल” क्या होता है इसके लक्षण क्या है और इसको कैसे ठीक किया जा सकता है?

                                       

यौन समस्या “ब्लू बॉल” क्या होता है इसके लक्षण क्या है और इसको कैसे ठीक किया जा सकता है?

‘ब्लू बॉल’ ये एक ऐसी समस्या है जिसका नाम पुरुषों ने कम ही सुना होता है लेकिन इसका अनुभव सबने ही कभी न कभी किया जरूर होता है।इस समस्या में पुरुषों के प्राइवेट पार्ट में दर्द होता है और अंडकोश में ब्लू-पर्पल निशान पड़ सकता है ।  इसका शरीर पर कोई नुकसान नहीं होता है। ये आम स्थिति है जिससे निपटना कठिन नहीं है।

क्या होता ब्लू बॉल

ये एक मानसिक स्थिति है। ये ऐसे पुरुषों को होती है जो शारीरिक संबंध बनाए बिना ही लंबे समय तक उत्तेजित रहते हैं। ये वो स्थिति है, जिसमें पुरुष उत्तेजित तो रहते हैं लेकिन उन्हें ऑर्गेज्म नहीं हो पाता है। फिर आखिर में उन्हें ये एक फ्रेस्ट्रेशन जैसा लगता है।


ब्लू बॉल के लक्षण

ब्लू बॉल के कई लक्षण हो सकते हैं जो पुरुषों को शारीरिक तौर पर परेशान कर सकते हैं। इसके चलते पुरुषों को दर्द भी महसूस होता है। कुछ खास लक्षण ये रहे-

· अंडकोष में भी दिक्कत हो सकती है ।

· पुरुषों के प्राइवेट पार्ट में दर्द हो सकता है।

· दर्द कई बार इतना ज्यादा हो सकता है कि पेट के निचले हिस्से और कमर तक भी जा सकता है।

 
ब्लू बॉल की स्थिति आती क्यों है?

पुरुषों में जब सेक्सुअल ऑर्गन्स उत्तेजित होता है, तो उनके पेनिस और टेस्टिकल्स की ब्लड वेसल्स में ब्लड फ्लो का वॉल्यूम अधिक बढ़ जाता है। लंबे समय तक सेक्सुअल ऑर्गन्स उत्तेजित होने की वजह से ब्लड ब्लड पेनिस और टेस्टिकल्स में जमा होने लगते हैं। ऐसे में पेनिस और टेस्टिकल्स में दर्द होने लगता है।  कुछ पुरुषों के जेनिटल एरिया में ब्लड लंबे समय तक स्टे कर सकता है, ऐसे में यह परेशानी बढ़ सकती है। ब्लू बॉल के कारण आदमियों को अनकम्फर्टेबल महसूत होने लगता है हालांकि ये स्थिति अगले कुछ घंटों में ठीक हो जाती है।

ऑर्गेज्म है पहला सॉल्यूशन

ब्लू बॉल का पहला हल ऑर्गेज्म है। ये सबसे तेज असर करता है। हालांकि आपको इसमें कुछ दिक्कत भी हो सकती है। दरअसल ऑर्गेज्म से दबाव कम हो जाता है। जैसे ही ऑर्गेज्म की स्थिति आती है आपके प्राइवेट पार्ट में ब्लड ड्रेन होकर आपको आराम दे देता है। ये काम हस्तमैथुन के साथ आसानी से हो सकता है।
इसके अलावा पार्टनर के साथ संबंध बनाकर भी ऐसा किया जा सकता है। लेकिन इस काम के लिए हो सकता है आपको अपनी पार्टनर पर बेवक्त दबाव बनाना पड़े। इसलिए परिस्थिति के हिसाब से काम करें।

ठंडा पानी करेगा मदद

अगर ऑर्गेज्म संभव नहीं है तो ठंडा पानी भी आपकी मदद कर देगा। दरअसल कई बार हस्तमैथुन या सेक्स के लिए सही समय और परिस्थिति नहीं होती है। इस वक्त आपको इस वक्त टेस्टिकल्स पर ठंडा पानी डालकर परेशानी से निकाला जा सकता है। शुरू में ये आपके लिए कठिन होगा। लेकिन इससे दर्द जरूर दूर हो जाएगा।
ब्लू बॉल पास हो जाने तक ये आपको अच्छा महसूस करने में मदद करेगा। समय हो तो आप नहा भी सकते हैं। लेकिन इसके बाद टेस्टिकल्स पर टॉवल रखें, इन्हें खुद छूने की कोशिश न करें।

व्यायाम भी है विकल्प

व्यायाम इस काम में असर करेगा या नहीं, इसको लेकर पक्का नहीं कहा जा सकता है लेकिन काफी हद तक इससे आराम मिल जाता है। दरअसल व्यायाम करने से ब्लड जेनिटल्स से हट जाता है। ये शरीर के दूसरे हिस्सों में पहुंच जाता है। इसके साथ ही ये आपका ध्यान भी दर्द से हटा देता है। व्यायाम करते हुए भी आपको थोड़ी दिक्कत हो सकती है। लेकिन जैसे ही जेनिटल्स से ब्लड हटेगा आपको आराम मिल जाएगा।

 दूसरे कामो में मन लगाइए

ब्लू बॉल की स्थिति होने पर दूसरे कामों में मन लगाना भी विकल्प हो सकता है। दरअसल दर्द से मन हटेगा तो आप बाकी काम आसानी से कर पाएंगे और ब्लू बॉल एक समय के बाद खुद ही ख़त्म हो जाएगा।
इसलिए इस वक्त वो काम करें जो आपका दिल लगा ले जैसे म्यूजिक सुनें, फिल्म देखें, पजल हल करें आदि।

सेक्स से जुड़ी बातें

ध्यान रखिए अगर ऑर्गेज्म की स्थिति नहीं है तो सेक्स से जुड़ी बातों से आपको अपना मन हटाना है।  सेक्स से जुड़े ख्यालों को दूर करके आप इस स्थिति से जल्दी निकल पाएंगे। इसलिए कोशिश यही करें कि सेक्स से जुड़े ख्यालों को खुद से दूर ही रखें। इस तरह से ब्लू बॉल से निकलना आसान हो जाएगा।

ध्यान देने योग्य बातें- 

· उत्तेजना के समय टेस्टिकल में भारीपन तो नहीं । 

· उत्तेजना के समय ही ब्लू बॉल की स्थिति आती है।

· अगर ऑर्गेज्म के बिना ही आपको उत्तेजना महसूस हो। इसके साथ जेनिटल्स में दर्द हो तो ब्लू बॉल की स्तिथि हो सकती है । 

· हर किसी के लिए ब्लू बॉल की स्थिति अलग हो सकती है। कुछ पुरुषों को भारीपन लगता है लेकिन दर्द नहीं होता है। जबकि कुछ को बहुत दर्द होता है।

· ब्लू बॉल नुकसान नहीं देते हैं इसलिए जब तक दर्द बहुत ज्यादा न हो डॉक्टर को दिखाने की जरूरत नहीं होती है।








गुरुवार, 8 जून 2023

एक्सरसाइज से बड़ती है सेक्स पेरफ़ॉर्मेंस और कामेच्छा - डॉ0 बी0 के0 कश्यप (sexologist)





एक्सरसाइज करने से बड़ती है सेक्स पेरफ़ॉर्मेंस और कामेच्छा - डॉ0 बी0 के0 कश्यप (sexologist)

एक्सरसाइज करने के फायदों के बारे आपने खूब सुना होगा। महिला हो या पुरुष, एक्सपर्ट दोनों को ही रोजाना एक्सरसाइज करने की सलाह देते हैं।

एक्सरसाइज का यह मतलब नहीं कि आप इसे जिम जाकर ही कर सकते हैं। आप घर पर, पार्क में या छत पर भी कसरत कर सकते हैं। अगर आप एक्सरसाइज नहीं कर पा रहे तो कोई न कोई फिजिकल एक्टिविटी जरूर करें। जैसे, रनिंग, वॉकिंग, योगा आदि।

एक्सरसाइज याददाश्त बढ़ाने, बीमारी से बचाव करने और वजन कंट्रोल करने में भी मदद करती है। इन सब चीजों को पढ़कर यह कह सकते हैं कि हेल्दी लाइफ स्टाइल के लिए वर्कआउट / एक्सरसाइज करना जरूरी है।

इन सबके अलावा एक्सरसाइज करना आपकी सेक्स लाइफ (Sex Life) के लिए भी फायदेमंद है।‘महिलाओं और पुरुषों दोनों के लिए ही एक्टिव होना कामोत्तेजक (aphrodisiac) होने की निशानी है।

इसलिए यह जानना जरूरी है कि वर्कआउट किस तरह आपकी सेक्स लाइफ को प्रभावित करता है। आइए कुछ बातों से समझते हैं एक्सरसाइज सेक्स लाइफ के लिए किस तरह फायदेमंद है।


1. वर्कआउट करने से कूल और अट्रैक्टिव दिखते हैं

जिम में लगे कांच में जब आप अपना शरीर देखते हैं तो आपको महसूस होता है ‘अरे, मैं तो अच्छा लग रहा हूं।’ लेकिन जब यही कॉन्फिडेंस आपके पार्टनर के साथ बेडरूम में आए तो मजा दोगुना हो जाता है।

रेगुलर एक्सरसाइज से सेल्फ स्ट्रीम (self-esteem) बेहतर करने में मदद मिलती है। जब हम किसी को पर्सनली पसंद करते हैं तो हमारी बॉडी और हम कैसे दिखते हैं। ये हमारे लिए काफी महत्वपूर्ण होता है।

एक्सरसाइज करने से बॉडी की पॉजिटिव इमेज बनती है। यह सेल्फ स्ट्रीम को बढ़ा सकती है और लोगों को अधिक सेक्सी, कॉन्फिडेंट और अट्रैक्टिव महसूस करा सकती है। ये सभी चीजें सेक्शुअल एक्टिविटी में भी मैटर करती हैं।

2. एक्सरसाइज से बढ़ती है सेक्शुअल परफॉर्मेंस

कोई भी फिजिकल एक्टिविटी (Physical Activity) शरीर को शेप देने और सेक्शुअल परफॉर्मेंस बढ़ाने में मदद करती है। कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी की एक स्टडी के मुताबिक रेगुलर एक्सरसाइज ने पुरुषों में इंटिमेट एक्टिविटीज, सेक्स के दौरान पर्याप्त फंक्शन और सेटिस्फाइंग ऑर्गेजम को बढ़ाया था।

(1) महिलाओं की बात करें तो टेक्सास यूनिवर्सिटी की रिसर्च के मुताबिक एक्सरसाइज से महिलाओं में शारीरिक यौन उत्तेजना (physiological sexual arousal) बढ़ती है।

(2) एक्सरसाइज सेक्स लाइफ और सेक्स परफॉर्मेंस, दोनों को ही प्रभावित करती है। साथ ही इससे हार्ट रेट और मसल्स की एक्टिविटी बढ़ती है जो सेक्शुअल परफॉर्मेंस और सेक्शुअल सैटिस्फैक्शन (sexual performance and sexual satisfaction) को बढ़ा सकती है।
 
3. तनाव कम करके मूड फ्रेश रखती है एक्सरसाइज

आप अगर तनाव ग्रस्त हो तो आपका शरीर अलग-अलग तरह से रिएक्ट करता है। जैसे, हार्डकोर वर्कआउट करना, एक्सरसाइज करने में चिढ़ होना, छोटी सी बात पर भी गुस्सा आना, कामेच्छा (libido) कम होना आदि।

तनाव का कारण शरीर में कार्टिसोल हार्मोन (Cortisol hormone) का उत्पादन बढ़ना होता है। यह समय के साथ आपकी सेक्स में रुचि भी कम कर सकता है।

ऐसे में एक्सरसाइज करने से एंडोर्फिन हार्मोन रिलीज होता है, जो कार्टिसोल लेवल को कम करता है। इससे साफ है कि एक्सरसाइज करने से स्ट्रेस कम होता है और इंटिमेट होते समय सेक्स ड्राइव को बनाए रखने में मदद करता है।
4. फ्लेग्जिबिलिटी बढ़ाने में मददगार है एक्सरसाइज

यदि आप नियमित एक्सरसाइज या योग करते हैं तो इससे आपका शरीर लचीला होगा। इससे आप बेडरूम में अलग-अलग तरह की सेक्स पोजिशन ट्राय करना चाहते हैं तो कर सकते हैं।

एक्सरसाइज का यह भी फायदा है कि आपके शरीर को कुछ पोजिशन में अधिक ताकत की जरूरत होती है। इसमें आपके मसल्स सहायता करते हैं।वेटलिफ्टिंग कामेच्छा बढ़ाने में मददगार होती हैं।

निष्कर्ष (Conclusion):

एक्सरसाइज करने से ब्लड सर्कुलेशन इम्प्रूव होता है। एक्सरसाइज आपकी सेक्स लाइफ को कैसे प्रभावित करती है। यह आपकी उम्र और शारीरिक स्थिति पर भी निर्भर करता है।
इसलिए लंबे समय तक अच्छी सेक्स लाइफ के लिए एक्सरसाइज करते रहना जरूरी है। इसलिए एक्सरसाइज को अपनी दिनचर्या का हिस्सा बनाएं।







धात गिरने की समस्या (धातुरोग) और समाधान

धात गिरने की समस्या (धातुरोग)और समाधान व्यक्तियों में बिना किसी से यौन संबंध बनायें वीर्य के अत्यधिक स्राव का होना धात गिरना, स्पर्मेटोरिया,...