Thursday, 10 September 2020

कैसे जाने कि आपका साथी आपसे सेक्सुअली संतुष्ट है?

                                     



कैसे जाने कि आपका साथी आपसे सेक्सुअली संतुष्ट है ? 

गर आपका पार्टनर आपके साथ रिश्ते में यौन रुप से संतुष्ट होता है तो वह खुश रहता है और आपके साथ इस रिश्ते को कायम रखने की कोशिश करता है। साथ ही वह आपको भी खुश रखने का प्रयास करता है।
किसी भी रिश्ते को निभाने के लिए आपको जहां प्यार, विश्वास और सम्मान की जरुरत होती है, वहीं यह भी जरुरी है कि आप दोनों के बीच यौन संबंध भी अच्छे हों। हम सभी जानते हैं कि प्यार का मतलब केवल शारीरिक आकर्षण नहीं होता है लेकिन फिर भी रिश्ते में शारीरिक आकर्षण और शारीरिक संबंधों का होना महत्वपूर्ण है। इसलिए आपको यह जानना चाहिए कि क्या आप अपने पार्टनर से या आपका पार्टनर आपसे यौन रुप से संतुष्ट है कि नहीं।
अगर आपका पार्टनर आपके साथ रिश्ते में यौन रुप से संतुष्ट होता है तो वह खुश रहता है और आपके साथ इस रिश्ते को कायम रखने की कोशिश करता है।

आइए इन संकेतों के बारे में जानते हैं :-

कैसे जानें कि आपका पार्टनर यौन रुप से संतुष्ट है-
खुश रहना
सीने से लगाना
रोमांटिक और आभारी होना
धोखा ना देना
खुद बताएं कि वह संतुष्ट हैं

खुश रहना -
अगर आपका यौन जीवन खुशहाल नहीं होता है तो आप अक्सर अपनी दिनचर्या में या काम के दौरान चिड़चिडे या नाखुश रहते हैं। इसके विपरीत अगर आपका यौन रुप से संतुष्ट रहते हैं तो आप खुश रहते हैं और आपका दिन अच्छा गुजरता है। इसलिए अगर आपका पार्टनर खुश रहता है और आपको खुश करने का प्रयास करता है तो आप समझें कि वह यौन रुप से संतुष्ट है।

सीने से लगाना -
आपका पार्टनर आपको बाहों में भरता है सीने से लगता है तो वह आपसे संतुष्ट है।
पुरुषों को स्नेह(affection) पसंद होता है। यौन संबंधों का मतलब केवल सेक्स से नहीं होता। बल्कि इसमें सीने से लगाना, किस करना आदि चीजें भी शामिल होनी चाहिए। इसलिए अगर आपका पार्टनर यौन संबंधों के दौरान और बाद में आपको सीने से लगता है तो वह आपसे संतुष्ट है।

रोमांटिक और आभारी होना -
संतुष्ट पार्टनर आपको खुश रखने का प्रयास करता है।
जब आपका पार्टनर आपसे संतुष्ट होता है तो वह आपको खुश रखने का प्रयास करता है और आपके प्रति अपना आभार व्यक्त करना चाहता है इसलिए वह रोमांटिक चीजें प्लान करता है जैसे डेट पर जाना या आपके लिए गिफ्ट्स लाना।

धोखा ना देना -
जो लोग अपने यौन जीवन से खुश नहीं होते हैं वो अक्सर अपने पार्टनर को धोखा देते हैं और बेवफाई करते हैं। इसलिए अगर आपका पार्टनर आपके अपने यौन जीवन से संतुष्ट है तो वह आपको धोखा नहीं देगा।

खुद बताएं कि वह संतुष्ट हैं -

पुरुष अक्सर इन चीजों को लेकर ईमानदार होते हैं। अगर आपका पार्टनर आपसे संतुष्ट है तो वह आपको खुद बताएगा कि वह यौन जीवन से खुश है और वह क्या महसूस करता है।
ये कुछ संकेत हैं जिनके जरिए आप जान सकते हैं कि आपका पार्टनर आपके साथ अपने यौन जीवन से संतुष्ट है।

Tuesday, 25 August 2020

ड्राई फ्रूट्स जो पुरुषो में स्टैमिना, फर्टिलिटी, स्पर्म काउंट और लिबिडो में जबरजस्त वृद्धि करें

           



 ड्राई फ्रूट्स जो पुरुषो में स्टैमिना, फर्टिलिटी, स्पर्म काउंट और लिबिडो में जबरजस्त वृद्धि करें


पुरुष अगर रोजाना ये ड्राई फ्रूट्स खाएं, तो उनकी तमाम निजी समस्याएं ठीक होंगी साथ ही फर्टिलिटी, स्पर्म काउंट और स्टैमिना, लिबिडो भी बढ़ेगा।
पुरुषों के स्वस्थ और आनंदमय जीवन के लिए स्पर्म काउंट और स्पर्म क्वालिटी दोनों ही बहुत मायने रखते हैं। लेकिन इन दिनों पूरी दुनिया के पुरुषों का स्पर्म काउंट तेजी से घटने लगा है। दुनिया में ऐसे शादी-शुदा जोड़ों की संख्या बढ़ रही है, जिन्हें तमाम प्रयासों के बाद भी बच्चा नहीं हो रहा है। इनमें से अधिकांश मामलों में पुरुषों के वीर्य में स्पर्म की कम मात्रा या खराब क्वलिटी जिम्मेदार है। इसे ही पुरुष बांझपन यानी मेल इंफर्टिलिटी कहते हैं। इस तरह की समस्याओं का जिक्र आमतौर पर किसी से नहीं करते हैं, जिससे उन्हें जीवन भर तमाम तरह की परेशानियां और घरेलू कलह का सामना करना पड़ता है।
पुरुषों की इस समस्या के पीछे बहुत हद तक जिम्मेदार उनका गलत खानपान और गलत लाइफस्टाइल है। इसे सुधारकर और कुछ खास ड्राई फ्रूट्स का सेवन करके कुछ महीनों में ही पुरुष अपनी शारीरिक और यौन कमजोरी को दूर कर सकते हैं, स्पर्म क्वालिटी और काउंट बढ़ा सकते हैं, साथ ही अपना स्टैमिना भी बढ़ा सकते हैं। इस काम में ड्राई फ्रूट्स यानी सूखे मेवे बड़े कारगर साबित होते हैं। हम आपको बता रहे हैं कुछ ऐसे ड्राई फ्रूट्स, जो पुरुषों का स्पर्म काउंट बढ़ाने के लिए बहुत फायदेमंद माने जाते हैं।

अखरोट:

अखरोट एक ऐसा ड्राई फ्रूट है जो हमें कई बीमारियों से छुटकारा दिलाने के साथ ही ये सैक्स पावर को भी बढ़ाने में मददगार है। इसमें प्रचुर मात्रा में नुट्रीन्स, वाइटल ओमेगा-3 फैटी एसिड, फाइबर, प्रोटीन, एंटी ओक्सिडेंट, विटामिन और मिनरल प्रचुर मात्रा में पाया जाता है।

बादाम: 

बादाम में पर्याप्त मात्रा में विटामिन E पाया जाता है जो मनुष्य में रिप्रोडक्टसन, सेक्सुअल हेल्थ, और इरेक्टाइल डिसफंक्शन में लाभ प्रदान करता है बादाम ब्लड सर्कुलेशन को भी ठीक करता है और लिबिडो को बूस्ट करने के लिये भी बादाम बहुत लाभकारी होता है ।

खजूर खाएं 


खजूर को आज से नहीं, सैकड़ों सालों से पुरुषों की फर्टिलिटी बढ़ाने और गुप्त रोगों के इलाज के लिए इस्तेमाल किया जाता रहा है। खजूर पर हुई कई रिसर्च में भी ये बात सामने आ चुकी है कि खजूर खाने से स्पर्म काउंट और क्वलिटी बढ़ती है तथा रिप्रोडक्टिव सिस्टम (प्रजनन तंत्र) स्वस्थ रहता है। खजूर में एस्ट्राडिओल और फ्लैवोनॉइड्स नामक दो प्रमुख कंपाउंड होते हैं, जो इसे पुरुषों के लिए खास बनाते हैं। खजूर दुनियाभर में मेल फर्टिलिटी को ठीक करने के लिए खाया जाने वाला सबसे पॉपुलर फूड है। खजूर का सेवन महिलाओं के स्तनों का आकार बढ़ाने में भी फायदेमंद माना जाता है। इसके अलावा खजूर के सेवन से पुरुषों में कामुकता और स्टैमिना भी बढ़ते हैं।

किशमिश भी है फायदेमंद

किशमिश वैसे तो अंगूर को सुखाकर ही बनाए जाते हैं, लेकिन ये अंगूर से कहीं ज्यादा पौष्टिक और फायदेमंद होते हैं। इसका कारण यह है कि सुखाने के दौरान किशमिश में एनर्जी, विटामिन्स, इलेक्ट्रोलाइट्स, एंटीऑक्सीडेंट्स और मिनरल्स कंसंट्रेट हो जाते हैं। किशमिश में विटामिन A की मात्रा बहुत अच्छी होती है, जिसके कारण ये पुरुषों की तमाम समस्याओं में फायदेमंद होता है। रोजाना किशमिश का सेवन करने से पुरुषों का स्पर्म काउंट बढ़ता है और स्पर्म की क्वलिटी भी बढ़ती है। इसके अलावा किशमिश के सेवन से पुरुषों के स्पर्म की मोटिलिटी ज्यादा बेहतर हो जाती है। इसलिए पुरुषों को स्नैक्स के रूप में किशमिश का सेवन जरूर करना चाहिए। हालांकि जिन लोगों को डायबिटीज है, उन्हें इसका सेवन अपने डॉक्टर से पूछकर सीमित मात्रा में ही करनी चाहिए।

सूखे अंजीर

सूखे हुए अंजीर भी पुरुषों के लिए एक बहुत फायदेमंद ड्राई फ्रूट है। अंजीर के सेवन से भी पुरुषों की फर्टिलिटी बेहतर होती है और उनका स्पर्म काउंट बढ़ता है। अंजीर को विटामिन्स और मिनरल्स से भरा हुआ सबसे पौष्टिक फल माना जाता है। अंजीर की खास बात ये है कि इसमें विटामिन B6, पैंटोथेनिक एसिड और कॉपर बहुत अच्छी मात्रा में होता है। इसके अलावा फाइबर का भी अंजीर अच्छा स्रोत है, इसलिए इसके सेवन से फर्टिलिटी बढ़ती है। सूखी हुई अंजीर खाने से पुरुषों के शुक्राणुओं की संख्या में वृद्धि होती है और मोटिलिटी बढ़ती है। आप अंजीर को भी स्नैक्स के टाइम पर खा सकते हैं।



Wednesday, 19 August 2020

ऐसे करें पुरुष बाँझपन की जाँच

 



ऐसे करें पुरुष बाँझपन की जाँच :-

 

बच्चा न होने के 40-50% मामलों में पुरुष की इन्फर्टिलिटी जिम्मेदार होती है। ऐसे में आप पिता बनने में कितने सक्षम हैं, इसकी जांच करने के ये 7 तरीके हैं।

हर कोई अपने वंश को आगे बढ़ाने के लिए एक संतान चाहता है। मगर कई बार महिला या पुरुष को शारीरिक-मानसिक समस्याओं के कारण बच्चा होने में परेशानी आती है। बहुत सारे लोग आज भी यही समझते हैं कि इन्फर्टिली (Infertility) यानी बांझपन सिर्फ महिलाओं की शारीरिक कमियों के कारण होता है, जबकि ऐसा नहीं है। पुरुषों में भी बांझपन होता है, जिसके कारण उन्हें पिता बनने में परेशानी आती है। इसे पुरुष बांझपन (Male Infertility) कहते हैं। दुनिया में जिन भी कपल्स को बच्चा होने में परेशानी आती है, उनमें से 40 से 50 प्रतिशत मामलों में पुरुष की कमी जिम्मेदार होती है। आपको जानकर हैरानी होगी कि दुनिया के सभी पुरुषों में से लगभग 7% पुरुष वयस्क बनने तक पिता बनने की क्षमता खो देते हैं।

पुरुषों में इन्फर्टिलिटी की मुख्य वजहें हैं-

शुक्राणुओं की कमी (Low Sperm Count),

शुक्राणुओं का ठीक से फंक्शन न करना (abnormal sperm function),

 कोई बीमारी, कोई चोट, सेहत से जुड़ी कोई समस्या, गलत लाइफस्टाइल और कुछ अन्य फैक्टर्स।

लेकिन पुरुष बांझपन की जांच कराना आज के समय में आसान हो गया है।

हम आपको बता रहे हैं कि कौन सी जांच कराकर पुरुष जांच सकते हैं कि वो पिता बनने में सक्षम हैं अथवा नहीं।

हार्मोन टेस्ट (Hormone testing)

पुरुषों के शुक्राणुओं के निर्माण से लेकर इनके ठीक से फंक्शन करने तक, हार्मोन्स का बड़ा रोल होता है। सेक्सुअल एक्टिविटीज से संबंधित हार्मोन्स पिट्यूटरी ग्लैंड, हाइपोथेलेमस और टेस्टिकल्स (अंडकोष) में बनाए जाते हैं। इनके अलावा अन्य हार्मोन्स भी कई बार छोटी-मोटी समस्याएं पैदा करते हैं, जिससे पुरुषों को पिता बनने में परेशानी आती है। पुरुषों में खासकर टेस्टोस्टेरॉन हार्मोन के कारण कई समस्याएं आती हैं। पुरुष इनकी जांच के लिए अपना हार्मोन टेस्ट करा सकते हैं, जिसके लिए खून का नमूना (Blood Sample) लिया जाता है।

अंडकोष का अल्ट्रासाउंड (Scrotal  ultrasound)

इस टेस्ट में आपको अंडकोष का अल्ट्रासाउंड किया जाता है, जिससे डॉक्टर द्वारा आपके टेस्टिकल्स में या इसके इसको सपोर्ट करने वाले दूसरे अंगों में होने वाली समस्याओं का पता लगाया जा सकता है।

इजैकुलेशन के बाद यूरिन की जांच (Post ejaculation urinalysis)

इस जांच में यूरिन यानी पेशाब में मौजूद स्पर्म की जांच करके इस बात का पता लगाया जा सकता है कि कहीं इजैकुलेशन के दौरान आपका वीर्य वापस ब्लैडर में तो नहीं चला जाता। इस जांच के लिए पुरुषों का यूरिन सैंपल लिया जाता है।

जेनेटिक टेस्ट (Genetic tests)

अगर आपके वीर्य में स्पर्म का कंसंट्रेशन बहुत कम है, तो ये इस बात का संकेत हो सकता है कि आप जेनेटिक कारणों से पिता नहीं बन पा रहे हैं। इस जांच के लिए भी खून का सैंपल लिया जाता है। जेनेटिक टेस्टिंग से कई ऐसी समस्याओं का भी पता चल जाता है, जिनका आपके परिवार में इतिहास रहा हो, यानी जो समस्याएं आपके परिवार में पहले से चली आ रही हों।

स्पर्म फंक्शन टेस्ट (sperm function tests)

इसमें ढेर सारे टेस्ट शामिल हैं, जो इस बात का पता लगाते हैं कि आपके स्पर्म इजैकुलेशन के बाद कितने समय तक जीते हैं, वो महिला के अंडों तक पहुंचकर उसमें प्रवेश करने में कितने सक्षम हैं या फिर कोई अन्य समस्या है। आमतौर पर ये टेस्ट कम किए जाते हैं।

टेस्टिकुलर बायोप्सी (Testicular  biopsy)

इस टेस्ट के लिए आपके टेस्टिकल्स (अंडकोष) से सुई के द्वारा एक छोटा सा सैंपल लिया जाता है और फिर इसका टेस्ट किया जाता है। इससे इस बात का पता लगाने में मदद मिलती है कि क्या आपका टेस्टिस सही से स्पर्म बना रहा है अथवा नहीं। अगर इस टेस्ट में स्पर्म ठीक बनता हुआ दिखता है, तो इसका अर्थ है कि ब्लॉकेज या स्पर्म ट्रांसपोर्ट की समस्या हो सकती है।

ट्रांसरेक्टल अल्ट्रासाउंड (Transrectal  ultrasound)

इस टेस्ट में आपके गुदा द्वार में एक चिकनाईयुक्त वैन्ड (रॉडनुमा डिवाइस) डाली जाती है, जिससे डॉक्टर को यह जांचने में मदद मिलती है कि वीर्य बाहर निकलने के रास्ते में कोई ब्लॉकेज तो नहीं है।

ये सभी टेस्ट्स डॉक्टर्स के द्वारा आपका मेडिकल इतिहास, आदतों, लक्षणों और समस्या को ध्यान में रखकर किए जाते हैं। इसलिए अगर आपको पिता बनने में परेशानी आ रही है या फिर लंबे समय से प्रयास के बाद भी आपकी साथी को गर्भ नहीं ठहर रहा है, तो डॉक्टर की सलाह लेकर इनमें से कोई टेस्ट करा सकते हैं।

 

अधिक जानकारी के लिए Dr.B.K.Kashyap से संपर्क करें 9305273775



Kashyap Clinic Pvt. Ltd.



Blogger:  https://drbkkashyap.blogspot.com/   


Justdial:

https://www.justdial.com/Allahabad/Kashyap-Clinic-Pvt-Ltd-in-Civil-Lines/group


Website:  http://www.drbkkashyapsexologist.com/


Gmail: dr.b.k.kashyap@gmail.com


Fb: https://www.facebook.com/DrBkKasyap/


Youtube https://www.youtube.com/channel/UCE1Iruc110axpbkQd6Z9gfg


Twitter: https://twitter.com/kashyap_dr


Lybrate:  https://www.lybrate.com/allahabad/doctor/dr-b-k-kashyap-sexologist


Sehat :  https://www.sehat.com/dr-bk-kashyap-ayurvedic-doctor-allahabad


Linkdin: https://www.linkedin.com/in/dr-b-k-kashyap-24497780/?

Sunday, 5 July 2020

रेगुलर एक्सरसाइज करने से आप रहेगें सेक्सुअली फिट




रेगुलर एक्सरसाइज करने से आप रहेगें सेक्सुअली फिट  :-

 रोज़ाना एक्सरसाइज़ करने से न स़िर्फ बॉडी फिट एंड फाइन रहती है, बल्कि ये सेक्स लाइफ को हेल्दी बनाने में भी मदद करता है।  रेग्युलर जिम जाना आपके अंतरंग पलों के लिए क्यों फ़ायदेमंद है? आइए, जानते हैं:-


1. टेस्टोस्टेरॉन लेवल बढ़ता है

अंतरंग पलों में टेस्टोस्टेरॉन हार्मोन महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।  ये हार्मोन सेक्स की इच्छा और क्रियाशीलता के लिए उत्तरदायी है।  रिसर्च बताती है कि रेग्युलर एक्सरसाइज़, ख़ासकर जिम में किए जानेवाले एक्सरसाइज़ से टेस्टोस्टेरॉन लेवल बढ़ता है।  

2. एनर्जी लेवल बढ़ता है

रेग्युलर एक्सरसाइज़ करने से एनर्जी लेवल बढ़ता है और ये एनर्जी सेक्स लाइफ में भी आपको एनर्जेटिक बनाए रखता है और आप सेक्स को ज़्यादा एंजॉय कर पाते हैं। 

3. आत्मविश्‍वास बढ़ता है

मोटापा सेक्स के लिए हानिकारक है. इससे जल्दी थकान महसूस होने लगती है और मोटापे का शिकार व्यक्ति पार्टनर को संतुष्ट नहीं कर पाता।  इससे उसका आत्मविश्‍वास टूट जाता है और वह सेक्स से दूर भागने लगता है।  जिम में एक्सरसाइज़ करने से मोटापा कम होता है और टेस्टोस्टेरॉन लेवल बढ़ने से सेक्स की इच्छा जागने लगती है।  

4. मिलती है टोन्ड-अट्रैक्टिव बॉडी

स्लिम-ट्रिम व टोन्ड बॉडी सबको आकर्षित करती है।  जिम जाने से एब्स टोन्ड होते हैं।  हाथ और पैरों की मसल्स स्ट्रॉन्ग होती हैं।  महिलाओं की कमर पतली होने लगती है।  बॉडी में कर्व्स आने लगते हैं।  प्यार के उन ख़ास पलों में आपकी आकर्षक बॉडी पार्टनर को आपके और क़रीब ले आती है। 

5. दूर होता है स्ट्रेस

आमतौर पर स्ट्रेस के कारण कपल्स अंतरंग पलों को पूरी तरह एंजॉय नहीं कर पाते।  तनावग्रस्त होने पर उन्हें सेक्स की इच्छा नहीं होती।  स्ट्रेस से स्टेमिना भी घटता है।  जिम में रेग्युलर एक्सरसाइज़ स्ट्रेस बस्टर का काम करता है।  एक्सरसाइज़ करने के बाद आप रिलैक्स महसूस करते हैं। 

6. बैलेंस डायट

जिम में एक्सरसाइज़ के साथ ही ट्रेनर आपको डायट चार्ट भी देते हैं।  वो आपके एक्सरसाइज़ टाइप और शरीर की ज़रूरतों के अनुसार आपका डायट चार्ट बनाते हैं।  वर्कआउट के बाद शरीर को पोषक तत्वों की ज़रूरत पड़ती है।  मसल्स और बॉडी बिल्डिंग के लिए हाईप्रोटीन और ज़िंक युक्त डायट लेनी चाहिए।  हेल्दी सेक्स लाइफ के लिए बैलेंस डायट बहुत ज़रूरी है। 

7. ब्रीदिंग पर कंट्रोल होता है


एक्सरसाइज़ और योग आपको ब्रीदिंग पर कंट्रोल करना सिखाता है और सही ब्रीदिंग टेकनीक से आप सेक्स का ड्यूरेशन और प्लेज़र दोनों बढ़ा सकते हैं। 


8. ऑर्गेज़म को बेहतर बनाता है

रिसर्च से ये बात पता चली है कि जो महिलाएं रेग्युलर एक्सरसाइज़ करती हैं, वे जल्दी उत्तेजित हो जाती हैं और ऑगेज़म को एन्जॉय करती हैं. दरअसल एक्सरसाइज़ से उनमें सेक्स हार्मोन्स का लेवल बढ़ जाता है, जिससे वे बेहतर सेक्स पार्टनर साबित होती हैं। 

Thursday, 25 June 2020

अच्छा स्वास्थ (फिटनेस) हेल्दी रिलेशनशिप की नीव है


अच्छा स्वास्थ (फिटनेस) हेल्दी रिलेशनशिप की नीव है-
अच्छा स्वास्थ अब तक हेल्थ से ही जोड़कर देखा जाता रहा है, लेकिन सच तो यह है कि आपकी अच्छा स्वास्थ आपके रिश्ते को भी प्रभावित कर सकती है। आप फिट रहेंगे, तो आपका रिश्ता भी हेल्दी और फिट बना रहेगा। 
अगर आप भी अपने रिश्ते को हेल्दी रखना चाहते हैं, तो आज से ही अपनी फिटनेस पर ध्यान देना शुरू कर दें। 
शादी से पहले ही नहीं, शादी के बाद भी फिट रहना बेहद ज़रूरी है। तो आज और अभी से ही अपने रिश्ते को बनाएं हेल्दी और अपने फिटनेस पर विशेष ध्यान दें। 

एक्सपर्ट्स के अनुसार-
शादी और फिटनेस में बहुत गहरा संबंध है। फिट और हेल्दी रहने से आप अधिक ऊर्जा व उत्साह का अनुभव करते हैं, जिससे आप अपने रिश्ते में भी अधिक उत्साह का अनुभव करते हैं। 
फिटनेस से आपका कॉन्फिडेंस बढ़ता है, जिससे सीधा-सीधा असर आपके रिश्ते पर भी पड़ता है। 
  1. एक साथ वर्कआउट करने से आप अपने साथी के क़रीब आते हैं। आप दोनों में आपसी समन्वय व सामंजस्य बेहतर होता है। शेयरिंग की भावना बढ़ती है। सेक्स लाइफ भी बेहतर होती है।  बढ़ी हुई ऊर्जा और बेहतर बॉडी इमेज आपसी आकर्षण को बढ़ाते हैं। 
  2. तनाव कम होता है हेल्दी रहने और रेग्यूलर एक्सरसाइज़ से आपका स्ट्रेस लेवल कम होता है। एक्सपर्ट्स यह बताते हैं कि तनाव आपको शारीरिक व भावनात्मक रूप से कमज़ोर बनाकर रिश्तों की आत्मीयता को धीरे-धीरे ख़त्म करता है। यहां तक कि सेक्स लाइफ को स्पॉइल करने में सबसे बड़ा रोल स्ट्रेस यानी तनाव का ही होता है। जहां सेक्स लाइफ अच्छी नहीं होगी, वहां रिश्ता अपने आप कमज़ोर होता चला जाएगा। ऐसे में जब तनाव कम होगा, तो आपका रिश्ता भी तनाव से मुक्त होगा। 
  3. आप जब अपने पार्टनर के साथ मिलकर फिटनेस गोल डिसाइड करते हैं, तो और भी उत्साह के साथ अपना लक्ष्य पाने की कोशिश करते हैं। फिटनेस से यदि आप दोनों और क़रीब आएं, तो इससे बेहतर और क्या हो सकता है इसे सीधे तौर पर कहा जाए, तो जब आप ख़ुद अच्छा महसूस करते हो, तो आप एक बेहतर पति/पत्नी बन सकते हो। 
  4. यदि आपको जिम की मेंबरशिप या योगा क्लासेस की टाइमिंग्स सूट नहीं करती या महंगी लगती है, तो दूसरे तरी़के से फिटनेस प्रोग्राम प्लान किया जा सकता है। जैसे- आप दोनों सुबह जल्दी उठकर वॉक पर जाएं या टेरेस पर स्किपिंग व स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज़ करें। 
  5. शाम को ऑफिस से आते समय या घर आने के बाद ही साथ में बाहर वॉक करते हुए मार्केट जाएं और सब्ज़ी व ज़रूरी सामान साथ लाएं। 
  6. लिफ्ट का इस्तेमाल न करें. सीढ़ियों से जाएं। घर के काम में साथ-साथ हाथ बंटाएं।  कपड़ों को लॉन्ड्री में देने की बजाय उनकी इस्तरी ख़ुद करें. एक दिन आप करें और एक दिन आपका पार्टनर, इस तरह से काम बांट लें। 
  7. इन सबके अलावा नियमित रूप से अपना ब्लड शुगर लेवल, बीपी, कोलेस्ट्रॉल व अन्य टेस्ट्स करवाएं.
एक अध्ययन से यह बात सामने आई कि कुछ कपल्स ने यह महसूस किया कि फिटनेस से उनके व्यक्तित्व व रिश्ते पर सकारात्मक प्रभाव पड़ा। 
अपने अनुभव के बारे में बताते हुए एक शख़्स ने कहा, पहले मुझे लगता था कि एक्सरसाइज़ और फिटनेस स़िर्फ पर्सनल केयर के अंतर्गत आता है, लेकिन मुझे किसी ने सलाह दी कि इसे इस तरह से देखो कि तुम्हें अपनी फैमिली, अपने पार्टनर के लिए भी फिट रहना है। इस सोच के साथ जब मैंने वर्कआउट और डायट वगैरह पर ध्यान देना शुरू किया, तो वाकई मेरा कॉन्फिडेंस भी बढ़ा और जब-जब मैंने अपनी बेटी और पत्नी को कहा कि मुझे तुम्हारे लिए फिट रहना है, ताकि मैं भी तुम्हारी तरह यंग और फिट नज़र आऊं। यह सुनकर मेरी फैमिली भी बेहद ख़ुश हुई और हमारी बॉन्डिंग और स्ट्रॉन्ग हुई। 
शादी के बाद फिटनेस का ख़्याल रखना और भी ज़रूरी हो जाता है, क्योंकि इससे आप में और आपके पार्टनर दोनों में यह एहसास बढ़ता है कि आप एक-दूसरे के लिए हेल्दी और आकर्षक नज़र आना चाहते है। इसके अलावा आप अधिक उत्साह व उमंग का अनुभव भी करते हैं। 
अमूमन लोगों की, ख़ासतौर से भारतीय लोगों की यह सोच रहती है कि जब तक शादी न हो जाए, तक तक ही आपको फिट और अट्रैक्टिव लगना है, लेकिन शादी के बाद वो इस पहलू को इस कदर नज़र अंदाज़ कर देते हैं कि उनमें न स़िर्फ बेहिसाब मोटापा बढ़ जाता है, बल्कि कई बीमरियों के भी शिकार होने लगते हैं।  जिस वजह से रिलेशनशिप और यहां तक कि सेक्स लाइफ भी प्रभावित होती है। 

अधिक जानकारी के लिए Dr.B.K.Kashyap से संपर्क करें 9305273775



Kashyap Clinic Pvt. Ltd.



Blogger:  https://drbkkashyap.blogspot.com/   


Justdial:

https://www.justdial.com/Allahabad/Kashyap-Clinic-Pvt-Ltd-in-Civil-Lines/group


Website:  http://www.drbkkashyapsexologist.com/


Gmail: dr.b.k.kashyap@gmail.com


Fb: https://www.facebook.com/DrBkKasyap/


Youtube https://www.youtube.com/channel/UCE1Iruc110axpbkQd6Z9gfg


Twitter: https://twitter.com/kashyap_dr


Lybrate:  https://www.lybrate.com/allahabad/doctor/dr-b-k-kashyap-sexologist


Sehat :  https://www.sehat.com/dr-bk-kashyap-ayurvedic-doctor-allahabad


Linkdin:


https://www.linkedin.com/in/dr-b-k-kashyap-24497780/?


Tuesday, 9 June 2020

क्या आप जानते है गर्मी आपके फर्टिलिटी (शुक्राणु) को कम कर सकती है?




क्या आप जानते है  गर्मी आपके फर्टिलिटी (शुक्राणु) को कम कर सकती है?

बहुत लोगों को इनफर्टिलिटी और स्पर्म काउंट कम होने की शिकायत होती है। मेडिकल ट्रीटमेंट और सप्लीमेंट इसका समाधान हो सकते हैं लेकिन इसके लिए आपको जीवनशैली में भी कुछ बदलाव करने होते हैं।
स्वस्थ और फिट रहने के लिए यौन स्वास्थ्य को बनाए रखना बेहद महत्वपूर्ण है। यौन स्वास्थ्य से जुड़ी कोई भी समस्या आपको माता-पिता बनने से रोक सकती है। यदि आपको लगातार इंफर्टिलिटी या शुक्राणुओं की कम संख्या की शिकायत हो रही हैं, तो आपको अपने शुक्राणु के स्वास्थ्य को लेकर सचेत होना चाहिए। शरीर के प्रत्येक अंग को टॉक्सिन्स फ्री और स्वस्थ रहने के लिए एक मुक्त वातावरण और पर्याप्त मात्रा में पोषण की आवश्यकता होती है। हालांकि, आपकी कुछ आदतें शुक्राणुओं के स्वास्थ्य को बिगाड़ सकती हैं।
लोग लैपटॉप को अक्सर गोद में रखकर काम करते हैं या अत्यधिक गर्म पानी से स्नान करते हैं जिससे इनकी गर्मी शुक्राणु के स्वास्थ्य को प्रभावित करती है। शुक्राणुओं को शरीर की तुलना में कम से कम 4 डिग्री कम तापमान की आवश्यकता होती है। आइए उन कारणों के बारे जानें जो आपके शुक्राणु के स्वास्थ्य को प्रभावित कर रहे हैं और आपकी फर्टिलिटी को कम कर सकते हैं।
लैपटॉप
लैपटॉप से निकलने वाली हीट आपके स्पर्म के स्वास्थ्य को प्रभावित करती है। यह आपके टेस्टिकल्स को गर्म कर देती है जबकि स्पर्म को कम तापमान की जरुरत होती है। इसलिए लैपटॉप को गोद में रखकर अधिक देर तक इस्तेमाल करने से शरीर में शुक्राणुओं की संख्या कम हो सकती है।
स्मार्टफोन्स
आपके मोबाइल फोन्स भी आपके स्पर्म के स्वास्थ्य को प्रभावित करते हैं। बहुत से लोग अपने फोन को जेब में रखते हैं जिससे उस हिस्से में हीट पहुंचती है। बैटरी की गर्मी और इलैक्ट्रोमेगनेटिक वेव्स शुक्राणुओँ की कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाती हैं और प्रजनन क्षमता को कम करती हैं।
तंग कपड़े
कुछ पुरुषों को तंग कपड़े पहनना पसंद होता है। हालांकि इससे उनके स्पर्म काउंट पर बुरा असर होता है। टेस्टिकल्स को सांस लेने के लिए ताजा हवा की आवश्यकता होती है। इसलिए ढ़ीले पैंट और अंडरवियर पहनना फायदेमंद होता है।
गर्म पानी से नहाना
थक जाने के बाद हर किसी को हॉट शावर लेना पसंद होता है। हालांकि, पानी के गर्म तापमान से आपके टेस्टिकल्स का स्वास्थ्य प्रभावित हो सकता है। इसलिए हॉट शावरों कम लें।
स्पर्म के स्वास्थ्य को कैसे बनाए रखें

अध्ययनों के मुताबिक, गर्मियों के मौसम में शुक्राणुओं के स्वास्थ्य पर असर पड़ता है। ऐसा अत्यधिक गर्मी के कारण होता है। इसलिए सूरज के संपर्क में अधिक समय तक ना रहें।
तंग कपड़े ना पहनें। इस हिस्से को ठंडा रखने के लिए ढीले स्वेटपैंट्स या बॉक्सर्स पहनें।
शरीर के तापमान को कम रखने गर्मियों के दौरान स्विमिंग करने जाएं।
वजन कम करें। मोटापे के कारण स्क्रोटम पर फैट की एक परत जम जाती है, जो टेस्टिकल्स को लगातार गर्म रखती है। यह शुक्राणुओं के उत्पादन को कम करता है। इसके अलावा, मोटापा इनफर्टिलिटी का मुख्य कारण है।


कैसे जाने कि आपका साथी आपसे सेक्सुअली संतुष्ट है?

                                      कैसे जाने कि आपका साथी आपसे सेक्सुअली संतुष्ट  है ?  अ गर आपका पार्टनर आपके साथ रिश्ते में यौन रुप से ...