Tuesday, 9 June 2020

क्या आप जानते है गर्मी आपके फर्टिलिटी (शुक्राणु) को कम कर सकती है?




क्या आप जानते है  गर्मी आपके फर्टिलिटी (शुक्राणु) को कम कर सकती है?

बहुत लोगों को इनफर्टिलिटी और स्पर्म काउंट कम होने की शिकायत होती है। मेडिकल ट्रीटमेंट और सप्लीमेंट इसका समाधान हो सकते हैं लेकिन इसके लिए आपको जीवनशैली में भी कुछ बदलाव करने होते हैं।
स्वस्थ और फिट रहने के लिए यौन स्वास्थ्य को बनाए रखना बेहद महत्वपूर्ण है। यौन स्वास्थ्य से जुड़ी कोई भी समस्या आपको माता-पिता बनने से रोक सकती है। यदि आपको लगातार इंफर्टिलिटी या शुक्राणुओं की कम संख्या की शिकायत हो रही हैं, तो आपको अपने शुक्राणु के स्वास्थ्य को लेकर सचेत होना चाहिए। शरीर के प्रत्येक अंग को टॉक्सिन्स फ्री और स्वस्थ रहने के लिए एक मुक्त वातावरण और पर्याप्त मात्रा में पोषण की आवश्यकता होती है। हालांकि, आपकी कुछ आदतें शुक्राणुओं के स्वास्थ्य को बिगाड़ सकती हैं।
लोग लैपटॉप को अक्सर गोद में रखकर काम करते हैं या अत्यधिक गर्म पानी से स्नान करते हैं जिससे इनकी गर्मी शुक्राणु के स्वास्थ्य को प्रभावित करती है। शुक्राणुओं को शरीर की तुलना में कम से कम 4 डिग्री कम तापमान की आवश्यकता होती है। आइए उन कारणों के बारे जानें जो आपके शुक्राणु के स्वास्थ्य को प्रभावित कर रहे हैं और आपकी फर्टिलिटी को कम कर सकते हैं।
लैपटॉप
लैपटॉप से निकलने वाली हीट आपके स्पर्म के स्वास्थ्य को प्रभावित करती है। यह आपके टेस्टिकल्स को गर्म कर देती है जबकि स्पर्म को कम तापमान की जरुरत होती है। इसलिए लैपटॉप को गोद में रखकर अधिक देर तक इस्तेमाल करने से शरीर में शुक्राणुओं की संख्या कम हो सकती है।
स्मार्टफोन्स
आपके मोबाइल फोन्स भी आपके स्पर्म के स्वास्थ्य को प्रभावित करते हैं। बहुत से लोग अपने फोन को जेब में रखते हैं जिससे उस हिस्से में हीट पहुंचती है। बैटरी की गर्मी और इलैक्ट्रोमेगनेटिक वेव्स शुक्राणुओँ की कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाती हैं और प्रजनन क्षमता को कम करती हैं।
तंग कपड़े
कुछ पुरुषों को तंग कपड़े पहनना पसंद होता है। हालांकि इससे उनके स्पर्म काउंट पर बुरा असर होता है। टेस्टिकल्स को सांस लेने के लिए ताजा हवा की आवश्यकता होती है। इसलिए ढ़ीले पैंट और अंडरवियर पहनना फायदेमंद होता है।
गर्म पानी से नहाना
थक जाने के बाद हर किसी को हॉट शावर लेना पसंद होता है। हालांकि, पानी के गर्म तापमान से आपके टेस्टिकल्स का स्वास्थ्य प्रभावित हो सकता है। इसलिए हॉट शावरों कम लें।
स्पर्म के स्वास्थ्य को कैसे बनाए रखें

अध्ययनों के मुताबिक, गर्मियों के मौसम में शुक्राणुओं के स्वास्थ्य पर असर पड़ता है। ऐसा अत्यधिक गर्मी के कारण होता है। इसलिए सूरज के संपर्क में अधिक समय तक ना रहें।
तंग कपड़े ना पहनें। इस हिस्से को ठंडा रखने के लिए ढीले स्वेटपैंट्स या बॉक्सर्स पहनें।
शरीर के तापमान को कम रखने गर्मियों के दौरान स्विमिंग करने जाएं।
वजन कम करें। मोटापे के कारण स्क्रोटम पर फैट की एक परत जम जाती है, जो टेस्टिकल्स को लगातार गर्म रखती है। यह शुक्राणुओं के उत्पादन को कम करता है। इसके अलावा, मोटापा इनफर्टिलिटी का मुख्य कारण है।


No comments:

Post a Comment

पेरोनीज रोग (लिंग का टेढ़ा होना), जानें इसके कारण, लक्षण और ठीक करने के उपाय-

                                                         पेरोनीज रोग (लिंग का टेढ़ा होना), जानें इसके कारण, लक्षण और ठीक करने के उपाय- पुर...